Bihar ki awaaz, Latest Bihar political News, Bihar crime news in hindi – बिहार की आवाज़
  • Home
  • Latest
  • जर्जर विद्यालय भवन में बच्चों को सताता है भय
Latest बिहार लखीसराय

जर्जर विद्यालय भवन में बच्चों को सताता है भय

लखीसराय। जिले में कई ऐसे प्राथमिक विद्यालय हैं जहां का भवन काफी पुराना हो चुका है। लेकिन, विभागीय पदाधिकारी की उदासीनता के कारण उस विद्यालय को देखने वाला कोई नहीं है। हाल यह है कि विद्यालय के बच्चे व शिक्षक डरे सहमे हुए रहते हैं। बड़हिया टाल क्षेत्र अंतर्गत पाली पंचायत के प्राथमिक विद्यालय कोठवा का पूरा भवन जर्जर हो चुका है। विद्यालय प्रधान से लेकर स्थानीय ग्रामीणों ने बीईओ बड़हिया को आवेदन देकर लंबे समय से गुहार लगाई लेकिन कुछ पहल नहीं हुई। कक्षा एक से पांच के छोटे-छोटे बच्चे विद्यालय के जर्जर भवन के कमरे या बरामदे में बैठते हैं तो छत का टुकड़ा टूट-टूट कर गिरता है। प्रखंड के बीईओ द्वारा कोई पहल नहीं करने के बाद विद्यालय शिक्षा समिति की सचिव कंचन देवी, वार्ड सदस्य शिरोमणि देवी, ग्रामीण रामजन महतो, सहदेव महतो आदि दर्जनों लोगों ने जिलाधिकारी एवं जिला शिक्षा पदाधिकारी को अलग-अलग आवेदन देकर कहा है कि विद्यालय का जर्जर भवन रहने के कारण हमेशा हादसे की आशंका बनी रहती है। ग्रामीणों ने पदाधिकारियों से नए भवन का निर्माण कर उसकी घेराबंदी कराने की गुहार लगाई। ग्रामीणों ने कहा है कि विद्यालय को 27.17 डिसमल अपनी जमीन है लेकिन घेराबंदी नहीं रहने के कारण स्थानीय कतिपय लोगों ने अतिक्रमण कर मवेशी के लिए बथान व झोपड़ी बना रखा है। विद्यालय की दुर्दशा एवं जमीन का अतिक्रमण करते देख गांव के कुछ युवाओं ने डीईओ से मिलकर इसकी शिकायत की है। ग्रामीणों ने बताया कि इससे पहले जिलाधिकारी ने इस मामले में एसडीओ को कार्रवाई करने का निर्देश दिया था लेकिन स्थिति जस की तस है। उधर डीईओ सुनयना कुमारी ने कहा कि प्राथमिक विद्यालय कोठवा के संबंध में ग्रामीणों ने आवेदन दिया है। डीपीओ एसएसए से इसकी जांच करवाकर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Share and Enjoy !

0Shares
0 0

Related posts

जन अधिकार छात्र परिषद ने NEET JEE मामले में शिक्षा मंत्री को 5 हजार पत्र लिखने का रखा लक्ष्य

Mukesh

उदाकिशुनगंज में हुए पुलिस अत्याचार के खिलाफ निकला मौन जुलूस

Mukesh

पटना के सड़को पर पप्पू यादव पेट्रोल डीजल के बढ़ते दामों के खिलाफ टमटम पर सवार होकर कर किया विरोध

Mukesh

Leave a Comment