Bihar ki awaaz, Latest Bihar political News, Bihar crime news in hindi – बिहार की आवाज़
  • Home
  • बिहार
  • जनता के मौत से भाजपा-जदयू और विपक्ष के नेताओं को कोई फर्क नहीं पड़ता
पटना बिहार

जनता के मौत से भाजपा-जदयू और विपक्ष के नेताओं को कोई फर्क नहीं पड़ता

जन अधिकार पार्टी लोकतांत्रिक के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद ने अपने वक्तव्य में कहा कि एक तरफ पूरे राज्य में सैकड़ों लोगों की बाढ़ की विभीषिका में जाने जा चुकी हैं। तो दूसरी ओर बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी भाजपा के अपने अन्य विधायकों के साथ फिल्म देखने में व्यस्त हैं। यह उसी तरह से है कि पूरा रोम जल रहा था और नीरो बंसी बजाने में व्यस्त था। जबकि पूरे राज्य में इससे पहले चमकी बुखार,लू के प्रकोप से सैकड़ों लोगों की जानें गईं थी तब बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय भारत पाकिस्तान मैच के स्कोर जानने में व्यस्त थे। ऐसा लगता है कि बिहार की जनता की जान की कीमत इनकी नजर में कुछ नहीं है।

आज जबकि केंद्र सरकार पर दबाव बनाकर बिहार को केंद्रीय आपदा प्रभावित क्षेत्र घोषित करवाना चाहिए था। और बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए केंद्र सरकार से सहायता राशि के लिए दबाव बनाने की आवश्यकता थी। ऐसे समय में फिल्म देखने की आवश्यकता भाजपा के नेताओं को क्यों पड़ी यह राज्य की जनता को बताना चाहिए। क्या राज्य में आम जनों की जान की कीमत भाजपा के नेताओं के नजर में कुछ नहीं है क्या ये लोग इसी तरह की राजनीति करके ये समझते हैं कि देश और बिहार की जनता हमें धार्मिक उन्माद और आरएसएस की जासूसी की जांच एवं झूठ के सहारे तो वोट दे ही देती है तो हम उनके बीच जाकर समय क्यों बर्बाद करें। राज्य की जनता ऐसे लोगों को वोट देने के समय ये ध्यान देती तो आज यह स्थिति राज्य की जनता को देखना नहीं पड़ता। आज जबकि विपक्ष के नेता भी इस मामले में दिल्ली में राजनीतिक गोटी फिट करने में व्यस्त हैं। ऐसे समय में बिहार में सिर्फ एक व्यक्ति और नेता एवं पार्टी नजर आ रहा है जो हर घर और हर लोगों तक पहुंचकर उनके दर्द को बांटने का प्रयास कर रहा है।

और उस व्यक्ति का नाम है राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव और पार्टी का नाम है जन अधिकार पार्टी लोकतांत्रिक जो आम जनों के मुद्दों से बिना भटके हर स्तर पर संघर्ष और सेवा के मदद से लोगों के बीच पहुंचने का काम पूरी गंभीरता से कर रहा है। राज्य की जनता अगर ऐसे समय को याद करके वोट के समय अपने वोट का सदुपयोग करें तो राज्य के राजनीति की दिशा और दशा बदल सकती है। दूसरी ओर युवा जन अधिकार परिषद के निवर्तमान प्रवक्ता रजनीश तिवारी ने कहा कि भाजपा और जदयू एक दूसरे के साथ नूरा- कुश्ती का खेल खेलकर आम जनता को बेवकूफ बना रही है और जनहित के मुद्दों से भटकाने का खेल खेल रही है। और एक दूसरे से राजनीति का गेम प्लान कर रही है। जिसमें विपक्ष भी फंस चुका है जिस कारण बिहार में जनता के मौत पर भी इन नेताओं को राजनीति करने में शर्म नहीं आ रही है जिसे आम जनता कभी माफ नहीं करेगी आज जबकि बाढ़ से हजारों धर ध्वस्त हो गई करोड़ों का नुकसान हुआ है। सैकड़ों लोग काल के गाल में समा गए हैं तब भी एक दूसरे के साथ नूरा कुश्ती का खेल समझ से परे है।

Related posts

बिहार नियोजित शिक्षकों के समर्थन में साथ खड़े उतरे जाप किसान सेल के प्रदेश अध्यक्ष मनोहर यादव..

anand

TMBU : स्नातक में दाखिला के लिए विवि के वेबसाईट पर जाकर मोबाइल से करें ONLINE आवेदन

Mukesh

सतीश के नेतृत्व मधेपुरा में युवाशक्ति की सैकड़ों युवाओ ने सदस्यता

Mukesh

Leave a Comment